प्रभास के “आदिपुरुष” में इतिहास, संस्कृति भाव और भावना से खिलवाड़

आदिपुरुष पिक्चर के किरदारों की ड्रेस मेकिंग, डायलॉग्स, प्रस्तुतीकरण ने दर्शकों को किया निराश, दर्शक बोले सिर्फ बकवास

मुंबई/लखनऊ। तेलुगू के सुपरस्टार प्रभास से उनके हाल ही में प्रकाशित फिल्म आदि पुरुष में धार्मिक भावनाओं के साथ छेड़छाड़ खिलवाड़ की इतनी उम्मीद दर्शकों को नहीं थी जितनी पर्दे पर दिख रही है। दर्शको को लग रहा था कि आदि पुरुष में बड़े पर्दे पर रामायण देखकर त्रेता युग के दर्शन करेंगे, बड़े पर्दे पर रामायण देखने इच्छा पूरी होगी लेकिन बड़े पर्दे पर आदि पुरुष देखने के बाद दर्शक पिक्चर को सिर्फ बकवास बता रहे हैं। दर्शकों का कहना है कि सुपरस्टार प्रभास से ऐसी उम्मीद नहीं थी। आदि पुरुष मूवी को न तो पिक्चर कहा जा सकता है न ही रामायण, यह मूवी सिर्फ धार्मिक भावनाओं, संस्कृति, इतिहास, भाव और भावना के साथ खिलवाड़ है। आदिपुरुष पिक्चर के किरदारों की ड्रेस मेकिंग, डायलॉग्स, प्रस्तुतीकरण ने दर्शकों को बहुत अधिक निराश किया है।

यह भी पढ़ें : मामी को अवैध संबंध खत्म करने की दी हिदायत, विरोध किया तो चाकुओं से गोद दिया
फ़िल्म आदि पुरुष से लोगों को काफी उम्मीदें थी। लोगों को लगा था कि रामानंद सागर की टीवी वाली रामायण की झलक आदि पुरुष में बड़े पर्दे पर देखने को मिलेगी। इस उम्मीद से दर्शक काफी प्रसन्न थे। लेकिन अब जब आदि पुरुष सामने है, फिल्म के निर्माता-निर्देशक, आर्टिस्ट, ड्रेसमेकर को खूब खरी-खोटी सुना रहे हैं साथ ही पिक्चर को बीच में ही छोड़कर घर की राह ले रहे हैं। 10 को का कहना है कि पिक्चर में कुछ है ही नहीं जो देखा जाए।

न पिक्चर है न रामायण सिर्फ बकवास

आदि पुरुष मूवी देखकर पिक्चर हॉल से बाहर निकले लखनऊ के गोमती नगर निवासी विवेक कुमार ने कहा कि आदि पुरुष बनाकर प्रभास ने हिंदू भावनाओं के साथ ही इतिहास और धर्म के साथ खिलवाड़ किया है। रागिनी बोली की वह मन में ही दबी रह गई पिक्चर में रावण और हनुमान जी के किरदार मुस्लिम के रूप में नजर आ रहे हैं।

प्रभास आदिपुरुष रावण और हनुमान
रावण                                                    हनुमान

राजेश बोले कि आदिपुरुष पर बैन लगाने की जरूरत है। उनका कि आज पुरुष में इस तरह से प्रभु, हनुमान, अंगद, रावण भगवान राम, लक्ष्मण और माता सीता से डायलॉग कहलवाए गए हैं जो न सिर्फ हिंदू धर्म की भावनाओं को आहत कर रहे हैं बल्कि इस पिक्चर के माध्यम से विदेशों में भारत का अपमान होगा। भगवान राम के प्रति जो तस्वीर लोगों के मन में है यह पिक्चर उस तस्वीर को धुंधला करने की कोशिश करेगी। अन्य दर्शकों ने भी एक स्वर से कहा कि आदि पुरुष पर बैन लगना चाहिए। धार्मिक, सांस्कृतिक और ऐतिहासिक भावनाओं से खेलने की छूट किसी को नहीं देनी चाहिए।

देखिए आदि पुरुष मूवी के डायलॉग एक नजर में

आदि पुरुष मूवी में जिस अंदाज में किरदारों से डायलॉग्स करवाए गए हैं उससे लग रहा है कि डायलॉग लिखने वाला निरा मूर्ख या अनपढ़ रहा होगा…डॉयलॉग -‘जो हमारी बहनों को हाथ लगाएगा उसकी लंका लगा देंगे’ यह डायलॉग क्या रामायण काल का हो सकता है… इसी तरह और देखिए..
नारी पुरुष मूवी में हनुमान जी की पूंछ में आग लगने के बाद इंद्रजीत कहता है… “जली न, अब और जलेगी, बेचारा… जिसकी जलती है वही जानता है”
इसके बाद जवाब देते हुए हनुमान जी कहते हैं… “कपड़ा तेरे बाप का…तेल तेरे बाप का…आग भी तेरे बाप की…और जलेगी भी तेरे बाप की…”
इसी तरह रावण की अशोक वाटिका में हनुमान जी से एक सैनिक के बोलने का अंदाज देखिए…”ऐ…तेरी बुआ का बगीचा है… क्या?… जो हवा खाने चला आया…मर्रर्ररेगा बेटे आज, अपनी जान से भी हाथ धोएगा तू… ”
क्या रावण और अंगद संवाद के बीच ऐसे डायलॉग की कल्पना की थी आपने देखिए… अंगद कहते हैं…”रघुपति राघव राजा राम बोल, और अपनी जान बचा ले…. वरना आज खड़ा है,कल लेटा हुआ मिलेगा….”
वही लक्ष्मण जी पर इंद्रजीत द्वारा ब्रह्मास्त्र का प्रयोग करने के बाद इंद्रजीत का डायलॉग लक्ष्मण जी के लिए देखिए…मेरे एक सपोले ने तुम्हारे इस शेष नाग को लंबा कर दिया… अभी तो पूरा पिटारा भरा पड़ा है…”
विभीषण और रावण के संवाद के बीच विभीषण रावण से कहता है कि….”भैया आप अपने काल के लिए कालीन बिछा रहे हैं…।
उधर अपने दरबार में रावण ने राघव के लिए क्या डायलॉग बोला तनिक देखिए क्या भगवान राम के प्रति ऐसे डायलॉग रावण बोल सकता था देखिए …”अयोध्या में तो वो रहता नहीं है क्यूँ …रहता तो वो जंगल में है…. और फिर जंगल का राजा तो शेर होता है… तो फिर वो राजा कहां का है रे….”

आदिपुरुष मूवी के ऐसे डायलॉग न सिर्फ धार्मिक भावनाओं को शर्मिंदा कर रहे हैं बल्कि रामचरितमानस रामायण और त्रेतायुग के बारे में हमारी नई पीढ़ी को जो मानसिकता परोस रहे हैं वह काफी घातक है। इससे न सिर्फ हमारी आने वाली पीढ़ी प्रभावित होगी बल्कि आदि पुरुष जैसी मूवी से विदेशों में भारत के प्रति मान सम्मान घटेगा भगवान राम की छवि धुंधली करने की कोशिश होगी।

करोड़ों की मूवी लेकिन दर्शकों की नजर में फूटी कौड़ी की नहीं

तेलुगू सुपरस्टार प्रभास की फिल्म आदि पुरुष में बीएफएक्स (VFX) पर करोड़ों रुपए खर्च किए गए हैं। लेकिन दर्शकों की नजर में करोड़ों से बनने वाली यह मूवी फूटी कौड़ी की भी नहीं है। दर्शकों के मुताबिक इस मूवी पर सरकार को एक्शन लेने की जरूरत है। जिससे कि आने वाले समय में फिर ऐसी मूवी के द्वारा भारतीय संस्कृति, धर्म, सनातन सभ्यता पर प्रहार न किया जा सके।
यह भी पढ़ें : मामी को अवैध संबंध खत्म करने की दी हिदायत, विरोध किया तो चाकुओं से गोद दिया